Imam Umer Ahmed Ilasi – इमाम उमर अहमद इलियासी कौन है, क्यों हुआ इनके खिलाफ फतवा जारी

Imam Umer Ahmed Ilasi Biography In Hindi, Family, son, organization, Shia aur Sunni, Latest News  (इमाम उमर अहमद इलियासी कौन है, जीवनी, ताजा खबर)

अयोध्या में राम मंदिर के ‘प्राण प्रतिष्ठा’ समारोह में शामिल होने को लेकर एक प्रमुख मुस्लिम धार्मिक नेता के खिलाफ फतवा जारी किया गया है। डॉ। भारतीय इमाम संगठन के वरिष्ठ इमाम इमाम उमर अहमद इलियासी ने पुष्टि की कि उनके खिलाफ फतवा जारी किया गया है।

इमाम इलियासी ने एएनआई को बताया, दो दिनों के विचार-विमर्श के बाद, मैंने देश को सद्भावना देने के लिए अयोध्या की यात्रा करने का फैसला किया है। “

अयोध्या समारोह में शामिल होने के बाद इमाम उमर अहमद इलियासी को मिल रही धमकियां

हालाँकि फ़तवा कल जारी किया गया था, लेकिन मुझे 31 जनवरी की शाम से धमकी भरे फ़ोन कॉल आने शुरू हो गए। मैंने कई कॉल रिकॉर्ड की हैं जहां कॉल करने वालों ने मुझे जान से मारने की धमकी दी। यह आयोजन पाकिस्तान को जाना चाहिए, मैंने प्यार का संदेश दिया, मैंने कोई अपराध नहीं किया, मैं न तो माफी मांगूंगा और न ही इस्तीफा दूंगा, वे जो चाहेंगे वही करेंगे।’

इमाम उमेर अहमद इलियासी: एक प्रगतिशील धार्मिक नेतृत्व की मिसाल

अखिल भारतीय इमाम संगठन (एआईआईओ) के प्रमुख डॉ. अहमद इलियासी की मृत्यु प्रगतिशील धार्मिक नेताओं के बीच हुई। उनके नेतृत्व में AIIO ने न केवल राष्ट्रीय बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी महत्वपूर्ण पहचान हासिल की है। देश भर की हजारों मस्जिदों के कई इमाम इस संगठन से जुड़े हुए हैं, जो इसकी व्यापक पहुंच और प्रभाव का संकेत देता है।

डॉक्टर की विशेषता. इलियासी उनका प्रगतिशील दृष्टिकोण है. वह मुस्लिम समुदाय के भीतर अपने विचारशील और उदार विचारों के लिए जाने जाते हैं। उनका व्यक्तित्व और उनके कार्यकलाप न केवल मुस्लिम समुदाय में, बल्कि संपूर्ण धार्मिक समुदायों में एक योग्य स्थान रखते हैं। उनके मार्गदर्शन और निर्देशन में AIIO ने धार्मिक सद्भाव और समाज की प्रगति के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए।

इमाम उमेर अहमद इलियासी की सीएए पर अभिव्यक्ति: ज्ञान और शांतिपूर्ण विरोध की वकालत

2019 और 2020 में जब दिल्ली समेत देशभर में सीएए और एनआरसी के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए थे, तब इमाम उमर अहमद इलियासी ने इस मुद्दे पर अपने विचार व्यक्त किए थे। उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारियों को सीएए और एनआरसी को अच्छी तरह से समझना चाहिए. इमाम इस बात पर जोर देते हैं कि अगर लोगों को लगता है कि नागरिकता सुधार कानून गलत है तो उन्हें शांतिपूर्वक विरोध करना चाहिए. अपने बयान में, उन्होंने सूचित निर्णयों और शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन की आवश्यकता पर जोर दिया।

इमाम उमर अहमद इलियासी: मोहन भागवत को ‘राष्ट्र ऋषि’ की उपाधि और उनकी सुरक्षा

2022 में इमाम उमर अहमद इलियासी ने दिल्ली के कस्तूरबा मार्ग स्थित एक मस्जिद में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अध्यक्ष मोहन भागवत से मुलाकात की। इस ऐतिहासिक बैठक में इमाम मोहन ने भागवत का उल्लेख “पादर्सलार मेल्लत” और “राष्ट्रपिता” के रूप में किया, जो उनके सम्मान और सम्मान का प्रतीक है।

इस हरकत के लिए इमाम उमर अहमद एलियासी को कई बार जान से मारने की धमकी दी गई। इन खतरों के कारण 2022 को Y+ सुरक्षा श्रेणी में रखा गया था। यह सुरक्षा उनके साहसिक और अद्वितीय दृष्टिकोण के महत्व को दर्शाती है।

FAQ

इमाम उमेर अहमद इलियासी कौन हैं?
उत्तर: इमाम उमेर अहमद इलियासी अखिल भारतीय इमाम संगठन के मुख्य इमाम हैं।

सीएए पर इमाम इलियासी की क्या स्थिति थी?
उत्तर: इमाम इलियासी ने सीएए के विरोध से पहले समझदारी और शांतिपूर्ण विरोध का आह्वान किया।

अयोध्या राम मंदिर के समारोह में उनकी भागीदारी का परिणाम क्या था?
उत्तर: अयोध्या में राम मंदिर के समारोह में भाग लेने के लिए उनके खिलाफ फतवा जारी किया गया था।

इमाम इलियासी ने मोहन भागवत से क्या कहा?
उत्तर: इमाम इलियासी ने मोहन भागवत को “राष्ट्र ऋषि” कहा।

इमाम इलियासी को क्या सुरक्षा प्रदान की गई थी?
उत्तर: इमाम इलियासी को सुरक्षा श्रेणी Y+ सौंपी गई है।

Read more like this:

Leave a Comment